रविवार, 30 अक्तूबर 2011

दलित मुद्दे पर बनी फिल्म 'जय भीम कॉमरेड' को बेस्ट फिल्म अवार्ड

अपने काम को लेकर विवादित फिल्मकार आनंद पटवर्धन की दलित मुद्दों पर बनी डाक्यूमेंट्री फिल्म 'जय भीम कॉमरेड' ने साउथ एशिया के बेस्ट फिल्म का खिताब जीता है. पिछले हफ्ते कठमांडू में चार दिनों तक चले कार्यक्रम में उनकी फिल्म को रामबहादुर ट्राफी दिया गया. 3 घंटे 20 मिनट की इस लंबी फिल्म में महाराष्ट्र में दलित एक्टिविज्म को दिखाया गया है. पटवर्धन की इस फिल्म ने 35 अन्य फिल्मों को पीछे छोड़ते हुए यह खिताब जीता. पुरस्कार स्वरूप उन्हें 2 हजार अमेरिकी डालर मिला है. सन् 1997 में महाराष्ट्र में हुए 10 दलितों की हत्या के बाद के घटनाक्रम को इस फिल्म में दिखाया गया है. तब पुलिस ने 10 दलितों को गोली मार दी थी.
इस फिल्म के बारे में पटवर्धन का कहना है कि यह फिल्म निजी कारण से उनके दिल के बहुत करीब है. उन्होंने कहा कि इस फिल्म को बनाने का कारण उनका एक दोस्त था जिसने 97 की उस घटना के बाद खुद को फांसी लगा ली थी. पटवर्धन के मुताबिक फिल्म में घटना के बाद की सारी परिस्थितियों के बारे में दिखाया गया है. इस फिल्म में भारतीय समाज में वर्ण के आधार पर बंटे जाति के बारे में उसकी सच्चाई के बारे में दिखाने की कोशिश की गई है.
 गौरतलब है कि आनंद पटवर्धन एक ख्याति प्राप्त फिल्मकार हैं. खास कर गंभीर सवाल खड़े करने वाली उनकी फिल्में अक्सर विवादों में घिर जाती है. आडवाणी की रथयात्रा पर उन्होंने राम और नाम नाम की डाक्यूमेंट्री फिल्म बनाई थी जो तमाम विवादों के बाद प्रदर्शित हो पाई. ऐसे ही 2005 में आई उकी 'जंग और अमन' को भी ढेरों विरोध का सामना करना पड़ा था. फिल्म में परमाणु हथियार और युद्ध के खतरों के बीच उग्रवाद और कट्टरपंथी राष्ट्रवाद के बीच संबंध तलाशने की कोशिश की गई थी.

जिज्ञासु पाठक अधिक जानकारी फिल्म के निर्देशक के वेबसाईट  http://www.patwardhan.com/index.shtml पर प्राप्त कर सकते हैं |

_______________________________________________________________
दलित मत  से साभार

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें